काला पीलिया क्या होता है | Kala Piliya Kya Hota hai in Hindi

काला पीलिया क्या होता है | Kala Piliya Kya Hota hai in Hindi

काला पीलिया क्या होता है | Kala Piliya Kya Hota hai in Hindi

काला पीलिया क्या होता है | Kala Piliya Kya Hota hai in Hindi | काला पीलिया क्या होता है | Kala Piliya Kya Hota hai in Hindi | काला पीलिया क्या होता है | Kala Piliya Kya Hota hai in Hindi

विक्रम बनेटा, रोहतक: काला पीलिया यानी हेपेटाइटिस। यह एक बीमारी है जिसमें मानव यकृत खराब होने लगता है। यदि बीमारी को नजरअंदाज कर दिया जाए तो समस्या कैंसर का लाइलाज रूप ले लेती है। यह एक तरह का लिवर इंफेक्शन है। यह बीमारी एक मरीज से 13 स्वस्थ लोगों को संक्रमित कर सकती है। जब तक 80 प्रतिशत बीमारी का पता चलता है, तब तक यकृत क्षतिग्रस्त हो चुका होता है। बीमारी की गंभीरता को देखते हुए राज्य सरकार ने नियंत्रण के लिए मुफ्त इलाज की पहल की। शिविरों और अन्य कार्यक्रमों के माध्यम से लोगों को काला पीलिया के प्रति जागरूक किया जा रहा है। राज्य सरकार की सार्थक योजना को देखते हुए केंद्र सरकार ने काला पीलिया के इलाज के लिए भी मुफ्त योजना बनाई है। ब्लैक पीलिया की दवाओं का असर कोरोना संक्रमण पर भी बताया जा रहा है।

पीजीआई के गैस्ट्रोएंट्रोलॉजी विभाग के अध्यक्ष और राज्य के मॉडल ट्रीटमेंट सेंटर के प्रभारी डॉ. प्रवीण मल्होत्रा काला पीलिया के नोडल अधिकारी हैं। उनका कहना है कि राज्य सरकार की योजना के मुताबिक एक बार आने पर मरीज को तीन महीने तक दवाएं दी जाती हैं। किसी कारणवश अगर मरीज खुद से नहीं आ पाता है तो उसका कोई भी रिश्तेदार आकर दवा ले सकता है। इतना ही नहीं, निगरानी इतनी सख्त है कि दवाएं भी कुरियर से भेजी जाती हैं। इलाज का पूरा खर्च सरकार वहन करती है। प्रत्येक जिले में काले पीलिया के लिए एक डॉक्टर को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। सरकार का प्लान आने के बाद काले पीलिया के मरीजों का सटीक पता लगाया जा रहा है। लोगों में जागरूकता बढ़ी है। नए मरीजों को प्राप्त करना एक सार्थक कदम है। इससे बीमारी पर बेहतर तरीके से काबू पाया जा सकेगा। यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल सकता है, थोड़ी सी समस्या होने पर ही रोगी चिकित्सक से परामर्श करना बेहतर होता है।

डॉ मल्होत्रा बताते हैं कि कैंप में रक्तदान करने से काले पीलिया का भी पता चलता है। पहले खून की जांच की जाती है, किसी भी तरह की कमी या अन्य समस्या होने पर व्यक्ति को सूचित किया जाता है। काला पीलिया की समस्या होने पर मरीज को नि:शुल्क योजना की जानकारी दी जाती है। इससे मरीज हम तक पहुंचता है। जब सही समय पर इलाज शुरू होता है तो व्यक्ति के स्वास्थ्य में सुधार भी तेजी से होता है। शुरुआत में ज्यादा समस्या नहीं होती है, लेकिन यह लीवर को भी नुकसान पहुंचाता है।

यह भी पढ़े :-

Smile Yojana Kya hai | स्माईल योजना क्या है?
Jharkhandi ko Kabu Mein Kaise Kare l झारखंडी को काबू में कैसे करे ?
यूपी बिहार वालो को काबू में कैसे करे। UP Bihar Walo Ko Kabu Mein Kaise Karen

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *